रेलवे की मिलीभगत से ट्रेनों में बिक रहा प्रतिबंधित पेन किलर बाम

सहारनपुर: सावधान! कही सस्ते बाम के चक्कर में हो ना जायें आप भी शिकार! जी हाँ आम जनता के स्वास्थ्य के साथ धोखाधड़ी वह भी आरपीएफ की मिलीभगत से ट्रेनों में बेचा जा रहा है प्रतिबंधित पैन किलर बाम जिससे लोग हो रहे खतरनाक बिमारियों का शिकार। आपको बता दे की गाढ़ी कमाई के लिए ऐसा ना हो यह दलाल एक दिन खुद को ही ना बेच दे आज हम आपको जनपद सहारनपुर में चल रहे एक गोरख धंधे के एक प्रतिबंधित बाम के बारें में बतायेंगे. कि यह बाम किसी बढ़िया कंपनी के नहीं होते है इसको लोकल में ही बनाया जाता है।




इस बाम में पिपरमेंट की मात्रा इतनी अधिक होती है कि जब इस बाम को बेचने वाले ट्रेन में किसी को लगाते हैं तो उसको हो रहा दर्द तुरंत ठीक हो जाता है।जैसे ही इसे किसी के माथे पर लगाया जाता है तो पिपरमेंट की मात्रा अधिक होने के कारण शरीर सुन्न हो जाता है जिससे शरीर के अंग में हो रहा दर्द ठीक हो जाता है।उस समय तो लोगों को आराम मिलता है जिससे उनकी बिक्री होती है लेकिन बाद में आँखों में दर्द, उल्टी और बेहोशी तक का मामला सामने आया है।




इसके बावजूद भी आरपीएफ की सह पर ये लोग बिना किसी डर के ट्रैन के डिब्बो में इस हानिकारक बाम को बेचते हैं जिससे जान और माल दोनों का ही नुकसान होता है।सूत्रों ने बताया कि सुमित नाम का व्यक्ति इस बाम को बनाता है और आरपीएफ को एक मोटी रकम देकर ट्रेनों में बिकवाता है। ट्रेनों में बाम बेचने वाले 8 या 10 युवक है जो रात में बिहार जाने वाली ट्रेनों में बाम बेचते है। लकड़ी के पुल के पास ही इसने रेलवे का कमरा किराये पर लिया हुआ है जहाँ शाम होते ही शवाब और शराब जोरो पर चलता है। जिसमे रेलवे के भी कुछ कर्मचारी वहा अधिकतर मौजूद रहते है।

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!